मंद‍िर में व‍िस्‍फोट के मामले में पुजारी हिरासत में, भड़के संतों ने अयोध्या कोतवाली


मंद‍िर में व‍िस्‍फोट के मामले में पुजारी हिरासत में, भड़के संतों ने अयोध्या कोतवाली घेरी

राम नगरी अयोध्या के यलोजोन में सुबह 4 बजे दो धमाके होने से हड़कंप मच गया। दोनों ही धमाके(Blast) रायगंज पुलिस चौकी के ठीक बगल नरसिंह मंदिर के सामने हुए। घटना के बाद से क्षेत्र में हड़कंप मचा हुआ है। सूचना पर पहुंची पुलिस ने तत्काल कुछ लोगों को हिरासत(Arrested) में लेकर जांच पड़ताल शुरू की है। वहीं, नरसिंह मंदिर के पुजारी की गिरफ्तारी(temple priest arrested) से नाराज संतों ने कोतवाली का घेराव किया। 

संतों का दावा है की मंदिर पर भूमाफियाओं की नजर है। कूटरचित घटना के अंतर्गत पुजारी को फंसाने का प्रयास(attempt to trap the priest) किया जा रहा है। संतों का आरोप है कि बदमाशों को अयोध्या पुलिस बढ़ावा दे रही है। रामवल्लभाकुंज के अधिकारी राजकुमार दास ने कहा करीब 20 दिन पहले ही पुलिस को सूचना दी गई थी पर पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की।

मणिराम दास छावनी के उत्तराधिकारी महंत व श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमल नयन दास भी कोतवाली परिसर में मौजूद हैं। किलाधीश मैथिली रमण शरण, मंगल भवन पीठाधीश्वर कृपालु, जानकीघाट मंदिर के महंत जनमेजय शरण, महंत शशिकांत दास, महंत मिथिलेश नंदनी शरण समेत सैकड़ों की तादाद में कोतवाली का संतों ने घेराव किया है।

अयोध्या कोतवाली क्षेत्र अंतर्गत रायपुर पुलिस चौकी के ठीक बगल में नरसिंह मंदिर का कब्जेदारी को लेकर महंत रामशरण दास व पुजारी रामशंकर दास के बीच में विवाद चल रहा है। मंदिर के महंत रामशरण दास ने 15 अगस्त को ही मंदिर रामशंकर दास के खिलाफ एसएसपी, सीओ अयोध्या व कोतवाल को शिकायती पत्र दिया था।

उन्होंने आरोप लगाया था कि रामशंकर मंदिर पर कब्जा करने के लिए लगातार जानलेवा धमकियां देता है। कहता है कि तुम बूढ़े हो गए हो मंदिर छोड़कर चले जाओ नहीं तो बोरे में भरकर सरयू में फेंकवा दूंगा। पत्र के जरिये उन्होंने सुरक्षा की अपील की थी।

 

Enter with Facebook Login